Subscribe Us

header ads

Friendship Shayari || Friendship Shayari || Friendship Shayari in Hindi

              दोस्तों आज के इस पोस्ट के अंदर हम दोस्ती शायरी यानि की फ्रेंडशिप शायरी देखेंगे , दुनिया में कुछ ही आयी लोग हिन्ज जिनके पास शायद कोई फ्रेंड नहीं हो। आप इस पूरा पोस्ट को पढ़े और अच्छा लगे तो आपने बेस्ट दोस्त के पास जरूर शेयर करें।
 



दोस्त नाम हैं सुख-दुःख की कहानी का ,
दोस्ती नाम हैं सदा मुस्कुराने का,
ये कोई पल भर का पहचान नहीं ,
दोस्ती नाम है सदा साथ निभाने का |



लोग रूप देखते है, हम दल  देखते है,
लोग सपने देखते है हम हकीकत देखते है 
लोग दुनिया में दोस्त देखते है 
हम दोस्तों में दुनिया देखते है।



सूरज के सामने रात नहीं होती ,
सितारों से दिल की बात नहीं होती ,
जिन दोस्तों को हम दिल से चाहते है
 न जाने उनसे क्यों मुलाकात नहीं होती। .



कंजूसों की जिंदगी क्या जीना,
कभी हमारी तरह भी जिया करो ,
रोज मेरा मैसेज पढ़कर श्रम नहीं आती 
कभी तुम भी मैसेज कर  दिया करो। 



  1. यह भी पढ़े 
  2. शायरी   क्लिक करें
  3. लव शायरी इन हिंदी  क्लिक करें
  4. दोस्ती शायरी  क्लिक करें

कोई दौलत  पर नाज करते है ,
कोई सोहरत पर नाज करते है ,
जिसके साथ आप जैसा दोस्त हो 
ओ  अपनी किस्मत पर नाज करते है। 



हक्कीकत मुहब्बत की जुदाई होती है ,
कभी कभी प्यार में बेवफाई होती है 
हमारे तरफ हाँथ बढ़ा कर तो देखो,
दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है। 



ये किसने कहा यारी बराबरी वालो से होती है 
ये तो अनमोल है इसमें सब बराबर होते है। 



हम तो बस इतना उसूल रखते है ,
जब हम तुझे काबुल करते है 
तो तेरा सब कुछ काबुल करते है। 



दोस्ती ओ  नहीं की जो मिट जाये ,
रास्तो की तरह काट जाये 
दोस्ती तो ओ  प्यारा अहसाह है 
जिसमे सब कुछ पल भर में ही सिमट जाई,



दोस्ती में दोस्त, दोस्त का खुदा होता है 
महसुसु तब होता है जब ओ  जुड़ा होता है। 



आदते अलग है मेरी दुनिया वालो से 
दोस्त कम रखता हुआ पार लाजवाब रखता हु। 

  • यदि आप स्टूडेंट्स है तो मोटिवेशनल कोट्स जरूर पढ़े :- क्लिक करें

दोस्ती किससे  न थी , किससे मुझे प्यार न था 
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था। 


वक़्त की यारी तो हर कोई करता है ये मेरे दोस्त ,
मजा तो तब है जब वक़्त बदले पर यार न बदले। 


एक रात रब ने मेरे दिल से पूछा 
तू दोस्ती में इतना क्यों खोया है 
दिल ने बोला दोस्ती ने ही दी है सारी  खुसिया 
वर्ण प्यार करके तोह दिल हमेसा रोया है। 



कमजोरिया मत ढूंढ मुझ में  ये मेरे दोस्त 
मवि दोस्ती के कैद में जमानत नहीं होती। 



दोस्ती तो इंसान की जरुरत है 
दिलो पर दोस्ती की हुकूमत है 
आपके प्यार की वजह से जिन्दा है 
वर्ण खुदा को भी हमारी जरुरत है। 



एक उम्र बित  चली है तुझे चाहते हुए 
तू आज भी बेखबर है कल की तरह। 



एक उम्र बित  चली है तुझे चाहते हुए 
तू आज भी बेखबर है कल की तरह। 



राज खोल देते है नाजुक से सारे अक्सर 
लिटनी खामोस मुह्हबत की जुबान  होती है। 



मुह्हबत एक खुसबू है जो हमेसा साथ रहती है 
कोई इंसान तन्हाई में भी कभी तनहा नहीं होता। 


दोस्तों आशा करता हु की ये सभी सायरी आपको बहुत ही अच्छे लगे होंगे , अगर और शायरी पढ़न चाहते है तो आप इस वेबसाइट के माध्यम से पढ़ सकते है।  और प्लीज़ इसको वात्सप्प पर जरूर शेयर करे 



धन्यवाद्