Subscribe Us

header ads

Romantic Shayari In Hindi || Love Shayari in Hindi

           दोस्तों आज के इस पोस्ट में आप कुछ लव शायरी , रोमांटिक शायरी , गिर्ल्फ्रेंड्स शायरी देखेंगे यदि  पोस्ट आपको  अच्छा लगता है तो अपने दोस्त या गर्लफ्रेंड के पास जरूर शेयर करें।  और यदि आप फेसबुक इंस्टाग्राम चलते है तोह वहा भी हमें फॉलो करें।
यदि आप कुछ सजेशन देना चाहते है तो कमेंट करके जरूर बताये।
 




इससे ज़्यादा तुझे और कितना करीब लाऊँ मैं,
कि तुझे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता।


हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो,
भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो।



बस तेरे होने से मिली मेरी धडकनों को जिंदगी,
तेरे बिना अब सांस लूँ मेरे लिए मुमकिन नहीं,
महसूस ये होता है तू मेरे लिए है लाजिमी,
तेरे बिना लम्हें चलें अब तो ये मुमकिन नहीं।



अपने जैसी कोई तस्वीर बनानी थी मुझे,
मेरे अन्दर से सभी रंग तुम्हारे निकले।



हम अपने इख़्तियार की हद से गुजर गए,
चाहा तुम्हें तो प्यार की हद से गुजर गए,
जागी है अपने दिल में गुलाबों की आरज़ू,
जब मौसम-ए-बहार की हद से गुजर गए।



कभी दोस्ती कहेंगे कभी बेरुखी कहेंगे,
जो मिलेगा कोई तुझसा उसे ज़िन्दगी कहेंगे,
तेरा देखना है जादू तेरी गुफ़्तगू है खुशबू,
जो तेरी तरह चमके उसे रोशनी कहेंगे।



तुम सामने आये तो अजब तमाशा हुआ,
हर शिकायत ने जैसे खुदकुशी कर ली।



आँखों में आँखें डालकर तुम्हारा दीदार,
ये कशिश बयाँ करना मेरे बस की बात नही।


इश्क़ है या इबादत...
अब कुछ समझ नहीं आता,
एक खूबसूरत ख्याल हो तुम
जो दिल से नहीं जाता।



तुझसे हारूं तो जीत जाता हूँ,
तेरी खुशियाँ अज़ीज हैं इतनी।


आप जब तक रहोगे आँखों में नजारा बनकर,
रोज आओगे मेरी दुनिया में उजाला बनकर।


मेरे वजूद में काश तू उतर जाए,
मैं देखूं आइना और तू नजर आये,
तू हो सामने और वक्त ठहर जाए,
और तुझे देखते हुए जिंदगी गुज़र जाए।


बारिश की तरह कोई बरसता रहे मुझ पर,
मिट्टी की तरह मैं भी महकती चली जाऊं।


हर बार दिल से ये पैगाम आए,
ज़ुबाँ खोलूं तो तेरा ही नाम आए,
तुम ही क्यूँ भाए दिल को क्या मालूम,
जब नजरों में हसीन तमाम आए।


जरा छू लूं तुमको मुझको यकीन आ जाए,
लोग कहते हैं कि मुझे साए से मोहब्बत है।



ज़िन्दगी तुम मेरी बन जाओ रब से और क्या माँगू,
जीने की वजह बन जाओ बस ये ही दुआ माँगू।



चेहरे पर हँसी छा जाती है,
आँखों में सुरूर आ जाता है,
जब तुम मुझे अपना कहते हो,
मुझे खुद पर गुरुर आ जाता है।



रूबरू मिलने का मौका मिलता नहीं है रोज,
इसलिए लफ्ज़ों से तुमको छू लिया मैंने।