Subscribe Us

header ads

Shayari in Hindi About Life || Life Shayari in Hindi || Hindi Shayari

         दोस्तों आज के इस पोस्ट में आपलोग लाइफ से सम्बंधित शायरी पढ़ेंगे , प्रिये USERS यदि ये मेर पोस्ट आपको अच्छा लगता है तोह आप कमेंट करके जरूर बताय , और यदि आप और भी हिंदी शायरी और कोट्स पढ़ना चाहते है तो आप मेरे इसी वेबसाइट पर पढ़ सकते है। आप ऊपर देखेंगे या सबसे निचा जायेंगे तोह आपको लिंक मिल जायेगा।  

हर किसी को जिंदगी दो तरीको से जीना चाहिए ,
पहला जो पसंद है उसको हासिल करना सिख लो ,
दूसरा जो हासिल है उसको पसंद करना सिख लो। 


समंदर न सही पर एक नदी तो होना चाहिए ,
तेरे सहर में जिंदगी कही तो होना चाहिए। 


कभी भी जिंदगी में थक जाओ ,
किसी को कानो कण खबर न होने देना ,
क्योकि लोग टूटी हुए इमारतों की ईट तक उठा ले जाते है। 


अजीब तरह से गुजर गयी ये जिंदगी ,
सोचा कुछ, किया कुछ, हुआ कुछ, मिला कुछ। 


कभी आँखों पे, कभी सर पे बिठाए रखना ,
जिंदगी नागवार सही पर दिल से लगे रखना। 


ये ना पूछना जिंदगी खुसी कब देती है ,
क्योकि शिकायत उसे भी है जिसे आपसे ज्यादा सम्पति है। 


 जो किस्मत में लिखा है, ओ भाग कर आएगा,
 और जो नहीं लिखा है वो आ कर भी भाग जायेगा। 


किस्मत के मौको को देखो ,
 वक़्त के घेरो को देखो ,
कल का इंतजार मत करो ,
आज जो है उसी से जो करना है करो। 


    शाम तक सुबह की नजरो से उजर जाते है ,
इतने समझौतों पर जीते है की मर जाते है। 


हाथ में टच फोन ,केवल स्टैट्स के लिए अच्छा है ,
अपने से बड़े के टच में रहो , जिंदगी के लिए अच्छा होगा।


आगे बढ़ने की जिद सबको भगा रही है ,
सपने में दौरने वालो को जिंदगी की ठोकरे जगा रही है।


रोया हु बहुत तब जरा करार मिला है ,
इस जहा में किसे भला सच्चा प्यार मिला है ,
गुजर रही है जिंदगी इम्तेहान के दौर से ,
एक ख़त्म तो दूसरा तैयार मिला है।


दुनिया की मुह्हबत फिजूल है ,
माँ की हर दुआ काबुल है।


खामोस बैठे है तोह लोग बोलते है खामोसी अच्छी नहीं ,
जरा सा हंस लो तो लोग मुस्कुराने कि वजह पूछने लगते है।


अकेले ही गुजर जाती है तम्हा जिंदगी ,
लोग तस्सलिया तोह देते है पर साथ नहीं देते।


ये जिंदगी तोह बहुत हलकी हुआ करती है ,
डीएम तो हमरी ख्वाइसे निकल डेट है।


कभी खोले तो कभी जुल्फ को बिखराय है ,
जिंदगी सैम है और संधाली जा य है।


हाथ थामे रखना ये दुनिया में भीड़ बहुत भरी है ,
खो न जाऊ कही ,ये पूरी जिम्मेवारी तुम्हारी है।


जो खो गया उसके लिए रोया नहीं करते ,
बस जो है उसपे ध्यान दो।


तू रख यकीं बास अपनी इरादों  पर ,
तेरी हार तेरी , तेरी इरादों से बड़ी नहीं होगी।


आज बचपन का टुटा हुआ खिलौना मिला,
उसने उस दिन भी रुलाया था , उसने आज भी रुलाया है।


आँखों में मंजिले थी ,
गिरे और सँभालते रहे, आँधिया में क्या दम थी ,
चराग हवा में भी जलते रहे।


हौसलों भी किसी हकिम से काम नहीं होते,
हर मुस्किले में सहस की दवा देती है।


दुआ करो सालामत रहे मेरा ये हिम्मत ,
ये अकेला कितने आँधियो पे भरी है।


सोचने से कहा मिलते है तमन्नाओ का शहर ,
 चलना भी जरुरी है , मंजिल को पाने के लिए।


हौसलों पर अपने तो एतवार करते है उन्हें ,
मंजिले खुद पत्ते बताती है और रस्ते इंतेजार करती है।


            दोस्तों आज के मेरा ये पोस्ट यदि आपको अच्छा लगा होगा तोह आप ऐसे जरूर अपने दोस्तों के पास शेयर करें। यदि आप और शायरी पढ़ना चाहते है तोह आपको ऐसी वेबसाइट पर मिल जायेगा। 

धन्यवाद् 



.