Subscribe Us

header ads

Shayari In Hindi Attitude || Attitude Shayari || Hindi Shayari

          दोस्तों आज के इस पोस्ट में मै आपके साथ कुछ ऐटिटूड शायरी शेयर करने जा रहा हु, जिसे आप अपने व्हाट्सप्प स्टेटस पे लगा सकते है या आप फेसबुक पर भी शेयर कर सकते है।  यदि ये मेरा पोस्ट आपको अच्छा लगता है तोह आप इसे अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सप्प ग्रुप में शेयर जरूर करें। मैं आशा करता हु जी ये पोस्ट आपको जरूर अच्छा लगेगा। और आप ऐसे शेयर करेंगे। आप ऐसे ही शायरी और कोट्स हिंदी में पढ़ने के लिए मेरे ऐसी वेबसाइट पर विजिट कर सकते है। और यदि आप फेसबुक व्हाट्सप्प चलते है तोह आप हमें जरूर वहां पर फॉलो करें। 







Shayari In Hindi Attitude || Attitude Shayari || Hindi Shayari




मैं लोगो से मुलाकातों के लम्हे यद् रखता हु ,
बाते भूल भी जाऊ पर लफ्जे याद रखता हु। 


दिल में मुह्हबत का होना जरुरी है ,
वरना याद तोह रोजाना दुसमन भी किया करते है। 


मेरी खामोसी को कमजोरी मत समझ ये जालिम ,
गुमनाम समंदर ही खौफ लाता है। 


शेर अपना सीकर करते है और,
 हम अपने ऐटिटूड से वार करते है। 


धोखा एक इंसान देता है ,
और नफरत सबसे हो जाती है। 


बिकने वाले और भी है जाओ जा कर खरीद लो ,
हम किम्मत से नहीं किस्समत से मिला करते है। 


मै वह तक अच्छा हु,
जहा तक आप अपनी औकात न भूले। 


बुरे है हम तभी तोह जी रहे है ,
अच्छे होते तोह दुनिया जीने नहीं देती। 


दिल को छोड़कर चेहरे की दीवानी है ये दुनिया ,
अब पता चला ये सेल्फी वाले फ़ोन इतने महंगे क्यों बिकते है। 


लौटकर आया हु फिर से मैदान में ,
अंदाज नहीं है फिर तरीका बदल गया है। 


मै बन्दुक और और गिटार दोनों बजाना जनता हु ,
तय तुम्हे करना है की आपको किसकी दूँ पसंद है। 


खेल तास का हो या जिंदगी का ,
एक्का तभी दिखाना जब सामने वाला बादशाह हो। 


बस दीवानगी के खातिर तेरे गली में आते है,
वरना आवारगी के लिए तोह सा सहर काफी है। 


दुश्मनो को सजा देने की एक तजहिब है ,
मै हाथ नहीं उठाता बस नजरो से गिरा देती हु। 


जो हमें साझ ही नहीं सका उसे हक़ है मुझे बुरा कहने का। 


ये मत्त समझ की तेरे काबिल नहीं है हम,
तरप रहे है ओ जिसे हासिल नहीं है हम। 


माना की तुम किसी रानी से कम नहीं ,
लेकिन ओ रानी ही क्या जिसके राजा हम नहीं। 


मेरे अंदर कमी निकालने से पहले ,
तुम अपनी साडी कमीना निकालो पहले। 


मैं ख़राब हु या नहीं ,
ये तुम्हारे सोच पर निर्भर करता है। 


मेरे साथ जब मैं खुद खरा होता हु ,
तब मैं कयामत के हर तूफान से बड़ा होता हु। 


सहारे ढूंढने की आदत नहीं हमारी ,
हम अकेले ही पुरे महफ़िल के बराबर है। 


मै तो वही से गुजरता हु,  जहा अपना पल झलकता है,
वर्ण आवाज तो ये जमाना दिया करता है। 


चर्चे हमेसा उन्ही के हुआ करता है ,
जिनका अंदाज अलग हुआ करते है। 


शेर अपनी ताकत से राजा कहलाया करता है ,
जंगल में चुनाव नहीं हुआ करते। 


         दोस्तों आज के पोस्ट को यही पे ख़तम करता हु ,आशा है ी आपने ऐसे पसंद किया होगा।  प्लीज़ आप इसे  पास जरूर शेयर करें। और कमेंट करके बताय की ये पोस्ट आपको कैसा लगा है। 

धन्यवाद् .


.